मंगलवार, जून 16, 2009

मेरा साठवां जन्म दिन

मेरा ६० वां जन्म दिन १२ जून को मेरा ६० वां जन्म दिन था जिसे मेरे मित्रों ने धूमधाम से मनाया . व्यंग्य लेखक एवं वरिष्ठ आई ऐ एस अधिकारी ज़ब्बार ढाकवाला सुप्रसिद्ध कथा लेखिका उर्मिला शिरीष और प्रगति लेखक संघ के कार्यकारी महासचिव शैलेन्द्र कुमार शैली ने योजना बनाई और पत्रिका राग भोपाली का एक अंक मेरे ऊपर प्रकाशित किया. इस पत्रिका का विमोचन समारोह मेरे जन्म दिन पर ही आयोजित किया गया . पत्रिका का विमोचन वरिष्ठ लेखक अक्षय कुमार जैन द्बारा किया गया तथा मुझ से भी कुछ रचनाएँ सुनाने को कहा गया. इस अवसर पर भोपाल के सभी प्रमुख साहित्यकार उपस्थित हुए जिनमें राजेश जोशी, कमला प्रसाद, राम प्रकाश त्रिपाठी, मनोहर वर्मा, मुकेश वर्मा , माणिक वर्मा , ज्ञान चतुर्वेदी, मनोज कुलकर्णी ,बलराम गुमास्ता फिरोजा अशरफअनवारे इस्लाम, बादल सरोज दिल्ली से आये हुए गौरी नाथ, किशन कालजयी, हेतु भारद्वाज, आदि सौ से अधिक लोग उपस्थित थे. में सबका आभारी हूँ क्योंकि सबने मुझे धैर्य पूर्वक सुना. यह सबकुछ अनायास हुआ और बहुत सफल माना गया

1 टिप्पणी:

  1. sahityakaron ke pas apni rachnadharmita ke sahdharmiyon ki sahityikta ki garmi oorja aur oxigen ke siva aur Sya hota hai,Aur kya hona chahiye. Pranam..bhaiya.

    उत्तर देंहटाएं